साइन इन | रजिस्टर

स्टॉक्स फंड्स एफ&ओ कमोडिटी

Sensex में 4600 अंकों की गिरावट के बाद अब बाजार में क्या हो निवेश रणनीति

20 अप्रैल 2021, 02:19 PM

Sensex में 4600 अंकों की गिरावट के बाद अब बाजार में क्या हो निवेश रणनीति

सेंसेक्स में सोमवार को करीब 2 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। सेंसेक्स फरवरी 2021 के अपने हालिया हाई 52,516 से करीब 9 फीसदी या 4,567  अंक नीचे दिख रहा है। इस अवधि में निफ्टी में भी करीब 7 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है।

जानकारों का कहना है कोरोना से निपटने के लिए पूरे देश के अलग-अलग हिस्सों में लागू किए जा रहे प्रतिबंधों के चलते देश की जीडीपी पर नकारात्मक असर देखने को मिलेगा। बाजार दिग्गजों का कहना कि कोविड-19 के कारण आ रही किसी गिरावट में अच्छे शेयरों में निवेश करना चाहिए।

बाजार दिग्गजों का कहना है कि भारतीय बाजार कंसोलीडेटेड रेंज में ट्रेड करेगा जहां इसके लिए 14200-14000 एक मजबूत बेस का काम करेगा। वहीं दूसरी तरफ ऊपर की और इसके लिए 14800-15000 का जोन रजिस्टेंस का काम करेगा। लेकिन कोरोना प्रूफ सेक्टरों में निवेशकों के लिए स्टॉक स्पेसिफिक मौके होंगे।

Julius Baer के रुपेन राजगुरू ने Moneycontrol से बात करते हुए कहा कि हालांकि कोविड-19 के दूसरी लहर ने इकोनॉमी के लिए नई चुनौतियां रखी हैं लेकिन कंज्यूमरों और कारोबारियों ने न्यू नार्मल को स्वीकार कर लिया है। लॉकडाउन के भी स्थानीय स्तरों पर ही सीमित रहने की उम्मीद है। इसको देखते हुए नहीं लगता कि कोरोना की ये नई लहर इकोनॉमी की रिकवरी को पटरी से उतार देगी।

रुपेन राजगुरू ने आगे कहा कि नियर टर्म में हमें healthcare, IT और chemicals जैसे कोरोना प्रूफ सेक्टरों में खरीदारी देखने को मिलेगी। वहीं लंबे नजरिए से देखें तो हमें financials और domestic cyclicals अच्छे नजर आ रहे हैं क्योंकि इनको आगे आने वाली इकोनॉमिक रिकवरी से सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा।

Axis Securities के नवीन कुलकर्णी का कहना है कि शॉर्ट टर्म में हमें कोविड-19 की दूसरी लहर का बड़ा असर देखने को मिलेगा। लेकिन ध्यान रखें कि डिमांड कभी भी पूरी तरह से खत्म नहीं होती ये फिर वापस आती दिखेगी। travel, tourism, restaurants और hotels सेक्टर के लिए लॉक डाउन का असर काफी बड़ा होगा। लेकिन इससे IT, pharma, metals, telecom और consumer staples पर बहुत कम असर होगा। कोरोना की दूसरी लहर का सबसे ज्यादा असर डिस्क्रीशनरी कंजम्प्शन पर दिखेगा।

भारत कोविड 19 से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में से एक रहा है। बाजार ने मार्च 2020 में गोता लगाया फिर इसमें अप्रैल में स्टेबिलिटी आती दिखी और एक साल बाद हम एक बार फिर उसी मंजर में हैं।

बाजार जानकारों का कहना है कि निवेशकों को इस समय कोरोना प्रूफ सेक्टरों में निवेश करना चाहिए। निवेशकों को अपने निवेश में बने रहते हुए गिरावट में खरीद करने की रणनीति अपनानी चाहिए। वित्त वर्ष 2022 अच्छे शेयरों को चुनने का साल रहेगा।

Waterfield Advisors के Nimish Shah का कहना है कि अप्रैल 2020 से अप्रैल 2021 कई मायनों में अलग है। लोग और बाजार दोनों कोरोना से निपटने के लिए पहले से ज्यादा तैयार हैं। उन्होंने आगे कहा कि निफ्टी में 15,200 के पीक से 10 फसदी तक का करेक्शन इसके लिए काफी अच्छा सपोर्ट लेवल होगा जो 13,600-13,700 के आसपास है। इस समय हमें ऑटो , बड़े निजी बैंको, बड़े NBFCs,home improvements/ electrical appliances कंपनियों, केमिकल और फार्मा सेक्टर के अच्छे शेयरों पर नजर रखनी चाहिए।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.

अगला   »
बड़ी खबरें»
BANDHAN BANK का मुनाफा 80 प्रतिशत से ज्यादा गिरा, ब्रोकरेज से जानें खरीदें, बेचें या करें होल्ड BANDHAN BANK का मुनाफा 80 प्रतिशत से ज्यादा गिरा, ब्रोकरेज से जानें खरीदें, बेचें या करें होल्ड
Market Live: बाजार की बढ़त, Nifty 14900 के निकला पार, फोकस में HEROMOTO Market Live: बाजार की बढ़त, Nifty 14900 के निकला पार, फोकस में HEROMOTO
नतीजों के बाद IDFC FIRST BANK और UltraTech क्या है दिग्गज ब्रोकरेज हाउसेज की रिपोर्ट नतीजों के बाद IDFC FIRST BANK और UltraTech क्या है दिग्गज ब्रोकरेज हाउसेज की रिपोर्ट
Global Market: बाजार के लिए ग्लोबल संकेत अच्छे, एशिया मजबूत, SGX NIFTY 15 हजार के पास Global Market: बाजार के लिए ग्लोबल संकेत अच्छे, एशिया मजबूत, SGX NIFTY 15 हजार के पास
सीधा सौदा (10 मई) - कमाई वाले 20 बेहतरीन स्टॉक्स जहां मिलेगा दमदार मुनाफा सीधा सौदा (10 मई) - कमाई वाले 20 बेहतरीन स्टॉक्स जहां मिलेगा दमदार मुनाफा