साइन इन | रजिस्टर

स्टॉक्स फंड्स एफ&ओ कमोडिटी

शानदार रिटर्न के लिए रामदेव अग्रवाल के मंत्र

12 अक्तूबर 2017, 07:47 PM

पिछली दिवाली से अब तक बाजार में काफी कुछ हुआ है। नोटबंदी और जीएसटी जैसे बड़े फैसलों के बावजूद निफ्टी ने 10,000 का स्तर पार किया है। लेकिन बाजार के जाने-माने वेल्थ क्रिएटर और मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के फाउंडर और ज्वाइंट एमडी रामदेव अग्रवाल का मानना है कि बाजार में अब भी काफी दमखम बाकी है और अगले कुछ सालों तक बाजार में जमकर कमाई होगी। इस तेजी में किन सेक्टर में सबसे ज्यादा कमाई होगी, आइए जानते हैं रामदेव अग्रवाल का क्या कहना है।

रामदेव अग्रवाल का कहना है कि अगले कुछ साल तक बाजार में जमकर कमाई होगी। फाइनेंशियल सेक्टर में आगे अच्छा रिटर्न मिलेगा। इंश्योरेंस और म्युचुअल फंड सेगमेंट में काफी दम नजर आ रहा है। इंश्योरेंस की पहुंच अब भी काफी कम है, ऐसे में आगे लाइफ और जनरल इंश्योरेंस दोनों में अच्छी कमाई मुमकिन है।

रामदेव अग्रवाल ने कहा कि एसेट मैनेजमेंट दुनिया का सबसे अच्छा कारोबार है और एसेट मैनेजमेंट में रिसर्च के दम पर पैसा बनता है। रामदेव अग्रवाल का मानना है कि दमदार कारोबार के साथ एएमसी में अच्छी ग्रोथ देखने को मिलेगी। महंगाई दर कम रहने पर बचत में तेज बढ़त होगी और बचत बढ़ने पर एसेट मैनेजमेंट में काफी पैसा आएगा।

जीएसटी पर बात करते हुए रामदेव अग्रवाल ने कहा कि संगठित सेक्टर पर जीएसटी का असर कम है। ऑटो सेक्टर में तेजी से रिकवरी हुई है, दिक्कतें दूर होने में 1-2 तिमाही लगेगी।

रामदेव अग्रवाल का मानना है कि मौजूदा माहौल में सालाना 15 फीसदी रिटर्न संभव है। अगले 5 साल में पैसा दोगुना होने की उम्मीद है। अगली दिवाली तक माहौल काफी बदल जाएगा, ग्लोबल इकोनॉमी में और मजबूती आएगी। रामदेव अग्रवाल की राय है कि सोने से बेहतर इक्विटी या डेट में निवेश करें सोने में अभी ज्यादा तेजी नहीं आएगी।

निवेशकों के लिए रामदेव अग्रवाल कि सलाह है कि वे अच्छे फंडामेंटल्स वाली कंपनी चुनें। ट्रेडिंग की बजाय लंबी अवधि के लिए निवेश करें और जरूरत होने पर ही फंड से पैसे निकालें।

« पिछला अगला   »
बड़ी खबरें»
सेंसेक्स 205 अंक मजबूत होकर बंद, निफ्टी 10320 के पार
गिरावट आने पर करें खरीदारी, इन शेयरों पर रखें नजर
इवेंट से भरपूर है माहौल, लंबी अवधि के लिए कहां फोकस करें
बाजार में दिखी तेजी, कहां करें खरीदारी
सुप्रीम कोर्ट पहुंचा यूनिटेक का मैनेजमेंट