साइन इन | रजिस्टर

स्टॉक्स फंड्स एफ&ओ कमोडिटी

जीएसटी से फायदा, 2 साल में ये शेयर बनाएंगे मालामाल

19 मई 2017, 01:17 PM

मोदी सरकार के सत्ता में आने के 3 साल बाद जीएसटी का सपना साकार हो रहा है, सरकार की पूरी कोशिश है कि 1 जुलाई से इसे लागू किया जा सके, ज्यादातर चीजों के लिए जीएसटी दरें भी तय कर ली गई हैं। मोदी सरकार के 3 सालों में बाजार ने भी जबरदस्त रिटर्न दिया है, तो क्या अब रिफॉर्म्स के चलते आने वाले 2 साल भी निवेश के लिहाज से आकर्षक बने रहेंगे। यही बताने के लिए लेकर आए हैं ये स्पेशल शो, जिसमें हम आपको बताएंगे कि अब वो कौनसे शेयर हैं जो आपको बनाएंगे मालामाल।

पूरे 3 साल हो चुके है मोदी सरकार को और जिस दिन से खबर आई थी एक बीजेपी के जीत की, तब से लेकर अब तक गजब की तेजी भारतीय बाजारों में देखने को मिली है। निफ्टी 16 मई 2014 से अब तक 32 फीसदी ऊपर है। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयर इस दौरान दोगुने हो चुके हैं। ये तो सिर्फ बेंचमार्क है, असली एक्शन तो स्टॉक्स में दिखा है। निफ्टी में आयशर मोटर्स 350 फीसदी, मारुति सुजुकी 225 फीसदी तक बढ़े हैं। वहीं निफ्टी के बाहर फ्रंटलाइन मिडकैप शेयरों में में इंडो काउंट में 1800 फीसदी और केन फिन होम्स में 1150 फीसदी की तेजी देखने को मिली है। एक लंबी लिस्ट है पर ये इतिहास है, अब कहां हैं मौके क्योंकि आजाद भारत का सबसे बड़ा टैक्स रिफॉर्म हकीकत बनने की कगार पर खड़ा है।

इंडिया इंफोलाइन के संजीव भसीन की पसंद

कोल इंडिया

संजीव भसीन के मुताबिक जीएसटी के तहत कोयले पर टैक्स कम होने कोल इंडिया को फायदा होगा। साथ ही कोल लिंकेज पॉलिसी से कोल इंडिया का वॉल्यूम भी बढ़ेगा। आने वाले दिनों में कोल इंडिया की प्राइसिंग और मार्जिन बेहतर होने की उम्मीद है। लिहाजा संजीव भसीन ने कोल इंडिया में 1 साल की अवधि के लिए 365 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

रिलायंस पावर

संजीव भसीन के मुताबिक जीएसटी के तहत कोयले पर टैक्स कम होने से रिलायंस पावर को फायदा होगा। कंपनी का उत्पादन बढ़ने पर लागत कम होगी। संजीव भसीन ने रिलायंस पावर में 1 साल की अवधि के लिए 65 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

डाबर

संजीव भसीन के मुताबिक टूथपेस्ट, हर्बल प्रोडक्ट्स पर टैक्स कम होने से डाबर को फायदा होगा। आगे डाबर के मार्जिन में सुधार की उम्मीद है। संजीव भसीन ने डाबर में 1 साल की अवधि के लिए 350 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज के धर्मेश कांत की पसंद

कोलगेट

धर्मेश कांत के मुताबिक टूथपेस्ट पर टैक्स 28 फीसदी से घटकर 18 फीसदी होने से कोलगेट को फायदा होगा। बाकी एफएमसीजी कंपनियों के मुकाबले कोलगेट की बैलेंसशीट मजबूत है। धर्मेश कांत ने कोलगेट में 1 साल की अवधि के लिए 1180 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

ब्रिटानिया

धर्मेश कांत के मुताबिक वित्त वर्ष 2018 में प्रोडक्ट्स के दाम 6-7 फीसदी बढ़ाने से ब्रिटानिया को फायदा होगा। वहीं ब्रेड और चीज पर टैक्स घटने से ब्रिटानिया को फायदा मिलेगा। साथ ही जीएसटी लागू होने के बाद अनाज सस्ता होगा। धर्मेश कांत ने ब्रिटानिया में 1 साल की अवधि के लिए 4065 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

आईटीसी

धर्मेश कांत के मुताबिक सिगरेट वॉल्यूम में आगे रिकवरी की उम्मीद है और आईटीसी को इसका जरूर फायदा मिलेगा। साथ ही बीड़ी और दूसरे तंबाकू उत्पादों पर जीएसटी ज्यादा होने से भी आईटीसी को फायदा होगा। वहीं चीनी और आटे पर जीएसटी कम होने से आईटीसी की लागत घटेगी। धर्मेश कांत ने आईटीसी में 1 साल की अवधि के लिए 320 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के संदीप जैन की पसंद

ऑलकार्गो लॉजिस्टिक्स

संदीप जैन के मुताबिक जीएसटी लागू होने के लॉजिस्टिक्स कंपनियों को फायदा होने की उम्मीद है। लिहाजा उन्होंने ऑलकार्गो लॉजिस्टिक्स पर दांव लगाने की सलाह दी है। संदीप जैन ने ऑलकार्गो लॉजिस्टिक्स में 6-9 महीने की अवधि के लिए 230 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

टाटा कॉफी

संदीप जैन के मुताबिक जीएसटी के तहत चाय और कॉफी पर टैक्स रेट कम होने से टाटा कॉफी को फायदा होगा। संदीप जैन ने टाटा कॉफी में 6-9 महीने की अवधि के लिए 160 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

बजाज कॉर्प

संदीप जैन का मानना है कि जीएसटी से बजाज कॉर्प को भी अच्छा फायदा होने की उम्मीद है। संदीप जैन ने बजाज कॉर्प में 6-9 महीने की अवधि के लिए 450 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश करने की सलाह दी है।

« पिछला अगला   »
बड़ी खबरें»
पहला कदम: पाएं छोटे निवेश पर बड़े मुनाफे का गुरुमंत्र
गुजरात घमासान, पाटीदार नेताओं का अल्टीमेटम
खाने के तेलों पर इंपोर्ट ड्यूटी में भारी बढ़ोतरी
लॉजिस्टिक सेक्टर को जल्द मिलेगा इंफ्रा का दर्जा
व्हाट्सऐप पर नतीजे लीक, सेबी करेगी जांच