साइन इन | रजिस्टर

स्टॉक्स फंड्स एफ&ओ कमोडिटी

घर के सपने से फिर खिलवाड़, बिल्डर क्यों करते हैं ऐसा!

21 अप्रैल 2017, 06:33 PM

देश में रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी यानि रेरा आने वाला है और दूसरी तरफ बिल्डरों से जुड़ी शिकायतों का सिलसिला भी लगातार जारी है। इस बार खबर आई है यमुना एक्सप्रेस वे से जहां पर अथॉरिटी ने इसीलिए 17 प्रोजेक्ट अटका दिए हैं क्योंकि बिल्डरों ने आपत्ति के बावजूद नए बिल्डिंग प्लान नहीं दिए।

यमुना एक्सप्रेसवे पर 17 प्रोजेक्ट लटके हैं और यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने ये बिल्डिंग प्लान रद्द किए हैं। जेपी इंफ्रा के 17 प्रोजेक्ट अटके हैं, जबकि गौरसंस के 2 प्रोजेक्ट अटके हैं। अजनारा, औरिस और वीजीए का प्रोजेक्ट भी अटक गया है। ये सारे प्रोजेक्ट सेक्टर 19, 25 और 22 बी में हैं।

दरअसल 2015-16 में बिल्डरों ने बिल्डिंग प्लान दिए, लेकिन अथॉरिटी ने बिल्डिंग प्लान में कमियां बताई। बिल्डरों से नए प्लान देने के लिए कहा गया। हालांकि बिल्डरों ने अब तक नए प्लान नहीं दिए हैं और बिल्डरों ने बिना प्लान अप्रूवल फ्लैट बेच दिए। इस बीच, यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने बिल्डिंग प्लान रद्द कर दिए और अथॉरिटी ने अब तक की बिक्री का ब्यौरा मांगा है। बताना चाहेंगे कि बिना प्लान अप्रूवल के फ्लैट बेचना गलत है।

« पिछला अगला   »
बड़ी खबरें»
मोदी अर्थनीति में कितनी इकोनॉमिक्स, कितनी पॉलिटिक्स!
ईज ऑफ डूईंग बिजनेस, टॉप-10 में आने की तैयारी
कंज्यूमर अड्डा: भ्रष्टाचार में डूबा भारत, कैसे मिले मुक्ति!
फोकस में हैं शेयर, इनमें आप क्या करें
पीएनबी के बाद ओरिएंटल बैंक में फ्रॉड